Sunday, August 30, 2009

कुछ देर खेलो और (For Your Babies)


कुछ देर खेलो और
इतनी जल्दी क्या है
उमर पड़ी

वो लंगडी वो लंगड़
वो स्टापू की चाल
वो कंचो की छन छन
बुढ़िया के बाल

कटती पतंगों के गिरने का मलाल
फ़िर उन पतंगों को लूटने का बवाल
डंडे से गिल्ली को देना उछाल
लट्टू की फिरकी का दिखाना कमाल

अभी तो शादी को हैं बाकी
जाने कितने गुड्डे गुडियों की जोड़ी

कुछ देर खेलो और
इतनी जल्दी क्या है
उमर
पड़ी

अटकन बटकन तोड़ कटोरी
दही कहीं चटकाते हैं
दस्ता पिंजर खार कबूतर
चिडियां कहीं उडाते हैं

घोडे बेचारे मुड़कर पीछे
मार बेवजह खाते हैं
व्यापार के बहाने यूँहीं अक्सर
दोपहारियां कई बिताते हैं

फ़िर शाम बिता देंगे यूँहीं बोलते हुए 'खो'
या एक साँस में कहते हुए 'कबड्डी-कबड्डी'

कुछ देर खेलो और
इतनी जल्दी क्या है
उमर पड़ी

विष और अमृत में आया
ऊँच नीच का फ़ासला
आइस पाइस की धप्पी मारे
घड़ी चुरा के पोसम्पा

फिसल सीडियों से गिरना
और सांपो में फस जाना
लूडो के पासो पर
नीली हरी गोटियाँ पिटवाना

जामुन का वो पेड़
वो शहतूत की ड़ाल
होली में कर देना सबको
टेसू के रंगों से निहाल

कितनी भी कर लो, फिर भी
बचपन की मस्ती होती है थोडी

कुछ देर खेलो और
इतनी जल्दी क्या है
उमर पड़ी

बालपन कुछ देर का
सफर है ज़रा सा
जल्द ही उठ जायेगी
इस बचपन की डोली

कुछ देर खेलो और
इतनी जल्दी क्या है
उमर पड़ी



Transliteration



Kuch der khelo aur
itni jaldi kya hai
umar padi

woh langdi woh langad
woh staapoo ki chaal
woh kancho ki chann chann
woh budhiya ke baal

Kat ti patango ke girne ka malaal
fir un patango ko lootne ka bawaal
dande se gilli ko dena uchaal
lattoo ki firki ka dikhana kamaal

Abhi to shaadi ko hain baanki
na jaane kitne gudde-gudiyon ki jodi

Kuch der khelo aur
itni jaldi kya hai
umar padi

atkan batkan tod katori
dahi kahin chatkate hain
dasta pinzar khaar kabutar
Chidiya kahin udate hain

Ghode bechare mud kar peeche
maar bewajah khaate hain
Vyapaar ke bahane yun hi aksar
dopahariyaan kayi bitate hain

fir shaam bita denge yun hi bolte hue 'kho'
ya ek saans kehte hue kabaddi-kabaddi

Kuch der khelo aur
itni jaldi kya hai
umar padi

vish aur amrut mein aaya
oonch neech ka faasla
aais paais ki dhappi maare
ghadi chura ke posampa

fisal seediyon se girna
aur saanpo mein fas jaana
ludo ke paaso par
neeli hari gotiyan pitwana

Jamun ka woh ped,
woh sahtoot ki daal
Holi mein kar dena sabko
tesu ke rangon se nihaal

kitni bhi kar lo, phir bhi
bachpan ki masti hoti hai thodi

kuch der khelo aur
itni jaldi kya hai
umar padi

Balpan kuch der ka
safar hai zara sa
jald hi uth jaayegi
is bachpan ki doli

kuch der khelo aur
itni jaldi kya hai
umar padi


Photo Courtesy: http://www.personaltao.com/tao/images%5Czen_childhood.jpg

3 comments:

Kaavya said...

profound one and the picture is also very nice !!! chacha good job

Adrenaline Junkie...Pranav said...

bhaiyya aapne polyplex wale din yaad dila diye...waah janab!

in fact i was about to post something on those good ol' days as well...this would prove to be an inspiration...

tony said...

bahut pyari kavita likhi, lagta hai inka aur mera bachpan ek jaise hi beeta hai.